HomeHindi Vyakaranतत्सम और तद्भव शब्द ट्रिक से याद करें

तत्सम और तद्भव शब्द ट्रिक से याद करें

तत्सम शब्द किसे कहते हैं?

तत्सम शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है ‘तत्’ और ‘सम’।

जिसका अर्थ होता है – ‘उसके समान’

हिन्दी में बहुत से शब्द संस्कृत से सीधे आ गए हैं और संस्कृत के मूल भाषा के रूप में हिन्दी में प्रयुक्त होते हैं।

अर्थात संस्कृत (मूल भाषा) के वे शब्द जो बिना रूप परिवर्तन के हिन्दी में प्रयोग किए जाते हैं, तत्सम शब्द कहलाते हैं।

जैसे – राष्ट्र, गौरव, कर्म, परीक्षा, आम्र आदि।

तद्भव शब्द किसे कहते हैं?

तद्भव शब्द का अर्थ होता है – ‘उससे होना’

ऐसे शब्द जो संस्कृत के होते हैं और समय के साथ उनमे परिवर्तन हो जाता है, तद्भव शब्द कहलाते हैं।

जैसे – काम, काज, परीछा, आम आदि।

तत्सम और तद्भव शब्द को याद करने के ट्रिक

  • ऐसा अक्षर जिसमे संयुक्ताक्षर क्ष, त्र, ज्ञ, श्र का प्रयोग हो, वे तत्सम शब्द माने जाते हैं।
  • जैसे – आम्र, अक्षि, परीक्षा, क्षीर, अश्रु आदि।
  • ‘ऋ’ का प्रयोग करके बनाया गया शब्द सदैव तत्सम शब्द होता है।
  • जैसे – कृषि, कृपा, अमृत आदि।
  • अनुनासिक से बना हुआ शब्द तद्भव होता है।
  • जैसे – गँवार, आँख, चाँद, मुँह, गेहूँ आदि।
  • ‘ड़’ और ढ़ का प्रयोग करके बना शब्द तद्भव होता है।
  • जैसे – घोड़ा, करोड़, घड़ी, दाढ़ी आदि।
तत्सम शब्दतद्भव शब्द
बंसीबांसुरी
मक्षिकामक्खी
साक्षीसाखी
श्रावणसावन
गोधूमगेहूँ
वत्सबच्चा
मुखमुँह
वानरबन्दर
कर्णकान
कंकणकंगन
ग्रामीणगँवार
कोकिलाकोयल
दुग्धदूध
म्रक्षणमक्खन
मृत्युमौत
क्षेत्रखेत
शिष्यशिस्य
द्विवरदेवर
दर्शनदरसन
दक्षिणदाहिना
आम्रआम
कर्मकाम
परीक्षापरख
कार्यकाज
अक्षिआँख
कोटिकरोड़
अक्षरअच्छर
अश्रुआँसू
घोटकघोड़ा
अंधकारअंधेरा
कुक्कुरकुत्ता
श्वेतसफ़ेद
ज्येष्ठजेठ
कर्पासकपास
विवाहविआह
भ्रमणभौंरा
मेघमेह
चन्द्रचाँद
इसिकाईंट
प्रस्विन्नपसीना
काकःकौआ
मत्स्यमछली
दधिदही
क्षत्रियखत्री
यमुनाजमुना
ग्राहकगाहक
लज्जालाज
षण्डसांड
हरिणहिरन
मिष्टिमिठाई
सूचिकासुई
अनशनअनसन
चक्रचक्का
चतुर्थचौथा
मधूकमहुआ
होलिकाहोली
लौहकारलोहार
तापताव
मण्डूकमेढक
उत्साहउछाह
राशिरास
हृदयहिय
चुम्बनचूमना
ग्रामगाँव
अक्षोटअखरोट
गायकगवैया
द्विवेदीदूबे
पत्रिकापाती
कैवर्तकेवट
पीठपीढ़ा
अक्षोटअखरोट
वासगृहबसेरा
मनुष्यमानुष
गोगाय
उज्ज्वलउजाला
नक्रनाक
सौभाग्यसुहाग
शब्दसबद
घटघड़ा
तीक्ष्णतीखा
पृष्ठपीठ
तीर्थतीरथ
संन्यासीसंयासी
यवजौ
वधूबहु
गर्दभगदहा
कुटुम्बकुटुम
कृष्णकिसन
साक्षीसाखी
श्यामलसाँवला
उत्साहउछाह
बलीवर्दबैल
चणकचना
घटिकाघड़ी
वत्सबछड़ा
चौर्यचोरी
पाणिपानि
स्वप्नसपना
अक्षतअच्छत
त्वरिततुरंत

सम्पूर्ण हिन्दी व्याकरण पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

All Categories

Select Your Subject:

Education

Calculator

PDF

Online Services