नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है ? Network topology in hindi

एक नेटवर्क में विभिन्न कम्प्यूटर जिस विधि से केवलो द्वारा जोड़ते है उसे नेटवर्क टोपोलॉजी कहा जाता है। सामान्यतः नेटवर्क टोपोलॉजी पॉंच प्रकार के होते है।

  1. बस टोपोलॉजी
  2. स्टार टोपोलॉजी
  3. मेश टोपोलॉजी
  4. ट्री टोपोलॉजी
  5. रिंग टोपोलॉजी
बस टोपोलॉजी
बस टोपोलॉजी में एक ‘बेकबोन केबिल’ का प्रयोग किया जाता है जिससे सभी कम्प्यूटर एवं नेटवर्क डिवाइस को जोड़ा जाता है। सभी डिवाइस एक सीरियल क्रम में जुड़ी रहती है। केबिल के प्रारम्भ एवं अंत में एक विशेष प्रकार का उपकरण लगा रहता है। जिसे ‘टर्मिनेटर’ कहते है। यह सिगनल को नियंत्रित करता है। इसमें बेकबोन केबिल के रूप में Coxial Cable  का प्रयोग किया जाता है।
 
बस टोपोलॉजी के लाभ 
  1. इसको स्थापित करना आसान होता है।
  2. इसमें कम केबिल का प्रयोग किया जाता है।
  3. इसमें नेटवर्क समस्या को आसानी से हटाया जाता है।
  4. कोई एक डिवाइस खराब होने पर नेटवर्क काम करता है।
बस टोपोलॉजी के हानि 
  1. बेकबोन केबिल खराब होने पर पूरा नेटवर्क काम करना बंद कर देता है।
  2. बड़ा नेटवर्क नहीं बनाया जा सकता है।
बस :-  बस एक प्रकार का मार्ग है जो डाटा या इलेक्ट्रॉनिक सिगनल को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले कर जाता है।
Backbone Cable :- बेकबोन कम्प्यूटर नेटवर्क में अन्य कम्प्यूटर्स को आपस में जोड़ने वाली मुख्य लाइन है। 
Coxial Cable :- यह एक विशेष प्रकार का तार  होता है,जिसे डाटा संचरण के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें एक केंद्रीय तार तथा उसके चारों ओर तारों की जाली होती है।
स्टार टोपोलॉजी
स्टार टोपोलॉजी में सभी कम्प्यूटर को एक होस्ट(HUB) कम्प्यूटर या नेटवर्क डिवाइस की सहायता से आपस में जोड़ा जाता है।
स्टार टोपोलॉजी के लाभ
  1. इसकी लागत कम होती है।
  2. एक कम्प्यूटर खराब होने पर पूरा नेटवर्क खराब नहीं होता है।
  3. इसमें नये कम्प्यूटर को आसानी से जोड़ सकते है।
 स्टार टोपोलॉजी के हानि 
  1. बस टोपोलॉजी की तुलना में अधिक केबिल की जरूरत पड़ती है। जिससे लागत बढ़ जाती है।
  2. HUB खराब होने पर पूरा नेटवर्क खराब हो जाता है।
मेश टोपोलॉजी
मेश टोपोलॉजी में कम्प्यूटर या नेटवर्क डिवाइस को आपस में कई इंटरकनेक्शन से जोड़ा जाता है। इसमें एक नोड को अन्य नोड से जोड़ा जाता है। इसका प्रयोग सर्वर साइड में किया जाता है।
नोड :-  नेटवर्क से जुड़े सभी कम्प्यूटरों का अंतिम बिंदु जो नेटवर्क के संसाधनों का उपयोग कर सकते है,नोड कहलाता है।
 
मेश टोपोलॉजी के लाभ
  1. यह अधिक विश्वसनीय है।
  2. इसमें नेटवर्क कभी डाउन नहीं होता है।
मेश टोपोलॉजी के हानि 
  1. यह मँहगा नेटवर्क होता है।
  2. यह काम्प्लेक्स नेटवर्क होता है इसको स्थापित करना कठिन होता है।
ट्री टोपोलॉजी
यह एक मिश्रित टोपोलॉजी है। यह दो या दो से अधिक टोपोलॉजी से मिलकर बनता है। इसमें बेकबोन काबिल होती है। जिससे सभी नेटवर्क को जोड़ा जाता है। इसका आकार वृक्ष की तरह होने से इसको ट्री टोपोलॉजी कहते है।
 
ट्री टोपोलॉजी के लाभ
  1. इससे बड़े नेटवर्क को जोड़ा जाता है।
ट्री टोपोलॉजी के हानि 
  1. इसको बनाना कठिन होता है।
  2. यह मँहगी होती है।
  3. इसको सुधारना कठिन होता है।
रिंग टोपोलॉजी
इसमें सभी कम्प्यूटर को रिंग आकार में जोड़ा जाता है। इसमें जो कम्प्यूटर प्रयोग किये जाते है। इसमें दूसरी अन्य नेटवर्क डिवाइस प्रयोग किये जाते है। यह छोटी नेटवर्क में प्रयोग होती है।
 
रिंग टोपोलॉजी के लाभ
  1.  इसमें डाटा सुरक्षित रहता है।
  2. यह एक सरल एवं सस्ती टोपोलॉजी है।
रिंग टोपोलॉजी के हानि
  1. इसकी गति धीमी होती है।
  2. इससे बड़े नेटवर्क को तैयार नहीं किया जा सकता है।
  3. इसमें डाटा भेजते समय टक्कर होने का डर रहता है।
अपना कीमती समय देने के लिए धन्यबाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *