HomeHindi Vyakaranराजभाषा और राष्ट्रभाषा क्या है?

राजभाषा और राष्ट्रभाषा क्या है?

आज मै आपको बताऊँगा कि हमारे देश (भारत) की ‘राजभाषा और राष्ट्रभाषा क्या है’ और इन दोनो मे क्या अन्तर होता है। इससे पहले मै आपको भाषा के बारे मे बता देता हूँ कि ‘भाषा किसे कहते है’ और ‘भाषा कितने प्रकार के होते है’ ताकि आपको ‘राजभाषा और राष्ट्रभाषा क्या है’ यह समझने मे कोई भी समस्या न हो।

भाषा क्या है?

भाषा कों समझने से पहले हमें ‘विचार’ के बारे मे समझना अतिआवश्यक है कि ‘विचार किसे कहते है’? तो चलिये हम समझ लेते हैं कि ‘विचार किसे कहते है’?

कोई भी बात जब तक हम अपने मन ही मन मे सोचते हैं और उसे किसी के सामने प्रकट नही करते हैं तब तक वह ‘ विचार’ कहलाता है तथा उसी विचार को हम जिस साधन के द्वारा दूसरे के सामने प्रकट करते हैं उसे ‘भाषा’ कहते हैं।

अर्थात हम कह सकते हैं कि भाषा वह साधन है जिसके द्वारा हम अपने विचार प्रकट करते हैं।

भाषा के प्रकार

भाषा के तीन रूप माने जाते हैं जो निम्न प्रकार हैं–

1.मौखिक भाषा

2.लिखित भाषा

3.सांकेतिक भाषा

मौखिक भाषा (Oral Language)

जो भाषा हम मुख से बोलते हैं तथा कानों से सुनते हैं, उसे मौखिक भाषा कहते हैं। मौखिक भाषा मे तीन बातें आती है – बोलना, सुनना और समझना ।

मौखिक भाषा की सबसे छोटी इकाई ध्वनि होती है।

लिखित भाषा (Written Language)

जिस भाषा को लिखकर हम किसी दूसरे के सामने अपने प्रकट करते हैं, उसे लिखित भाषा कहते हैं। लिखित भाषा में भी तीन बातें आती हैं – लिखना, पढ़ना और समझना ।

लिखित भाषा की सबसे छोटी इकाई वर्ण होती है।

सांकेतिक भाषा (Indicated Language)

जिस भाषा को संकेतो के द्वारा हम किसी दूसरे के सामने अपने प्रकट करते हैं, उसे सांकेतिक भाषाकहते हैं।

बोली किसे कहते हैं?

भारत के अलग – अलग क्षेत्रों मे रहने वाले लोग एक ही भाषा को अलग – अलग प्रकार से बोलते हैं। भाषा के इसी क्षेत्रीय रूप को बोली कहा जाता है।

लिपि किसे कहते हैं?

भाषा को लिखित रूप मे प्रकट करने के लिये जिन संकेतों व ध्वनियों का प्रयोग किया जाता है उनके समूह को लिपि कहते हैं। अलग – अलग भाषाओं की अपनी अलग – अलग लीपियाँ होती है।

जैसे –

हिंदी भाषा देवनागरी लिपि मे लिखी गई है।

संस्कृति भाषा देवनागरी लिपि मे लिखी गई है।

अंग्रेजी भाषा रोमन लिपि मे लिखी गई है।

पंजाबी भाषा गुरुमुखी लिपि मे लिखी गई है।

उर्दू भाषा फारसी लिपि मे लिखी गई है।

राजभाषा और राष्ट्रभाषा क्या है?

राजभाषा

वह भाषा जिसका प्रयोग पूरे देश का काम – काज चलाने के लिये सरकारी स्तर पर किया जाता है, उसे राजभाषा कहते हैं। हमारे देश (भारत) की राजभाषा हिंदी है। स्वतंत्रता – प्राप्ति से पूर्व हमारे देश की राजभाषा ‘अँग्रेजी’ थी। भारतीय संविधान के 8 वीं अनुसूची मे कुल 22 भाषाओं का उल्लेख है।

संसार के विभिन्न देशों मे अलग – अलग भाषा बोली जाती है। जैसे – चीन मे चीनी भाषा, इंग्लैंड मे अँग्रेजी भाषा, रूस मे रूसी भाषा आदि।

भारत मे बोली जाने वाली कुछ भाषा

भारत मे बोली जाने वाली कुछ भाषा निम्न प्रकार हैं –

बंगाल – बंगला

गुजरात – गुजरती

तमिलनाड़ु – तमिल

कश्मीर – कश्मीरी

कर्नाटक – कर्नाटक

पंजाब – पंजाबी

केरल – मलयालम

महाराष्ट्र – मराठी

असम – असमिया

उड़ीसा – उड़िया

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 343(1) मे वर्णित है कि ‘संघ की राजभाषा हिंदी और लिपि देवनागरी होगी’।

राष्ट्रभाषा 

राष्ट्रभाषा का शाब्दिक अर्थ होता है – ‘पूरे राष्ट्र मे प्रयोग की जाने वाली भाषा’

अर्थात वह भाषा जिसका प्रयोग देश मे रहने वाले अधिकांश लोग परस्पर बातचीत करने मे करते हैं, राष्ट्रभाषा कहलाती है।

राजभाषा और राष्ट्रभाषा में अंतर

राजभाषा और राष्ट्रभाषा मे कुछ निम्न अंतर है –

  1. राजभाषा किसी भी देश में दो से अधिक नही हो सकती हैं जबकी राष्ट्रभाषा किसी भी देश में अनेकों हो सकतीं हैं।
  2. राजभाषा का क्षेत्र सीमित होता है जबकि राष्ट्रभाषा का क्षेत्र असीमित होता है।
  3. राष्ट्रभाषा से लोगो की अपनी संस्कृति और भावनाये जुड़ी होती है जबकि राजभाषा के साथ यह आवश्यक नही होता है।

सम्पूर्ण हिन्दी व्याकरण पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Convert cal to kcal

Convert kcal to cal

Convert kcal to kJ

Convert kJ to kcal

All Categories

Select Your Subject:

Education

Calculator

PDF

Online Services